Home पॉलिटिक्स महाराष्ट्र में मंदिर के मुद्दे पर सियासत तेज, महाविकास अघाड़ी और विपक्ष...

महाराष्ट्र में मंदिर के मुद्दे पर सियासत तेज, महाविकास अघाड़ी और विपक्ष आमने सामने

2
0


हाइलाइट्स:

  • महाराष्ट्र में मंदिर के मुद्दे पर सियासत तेज, महाविकास अघाड़ी और विपक्ष आमने सामने
  • मंदिर खोलने को लेकर शुरू हुए इस सियासी घमासान में जुबानी जंग हुई तेज
  • आशीष शेलार ने कहा कि कसाब को बिरयानी खिलाने वालों के साथ शिवसेना ने रचाई शादी
  • यशोमति ठाकुर ने कहा कि राज्यपाल की चिट्ठी षड़यंत्र का हिस्सा

महाराष्ट्र में मंदिर (Maharashtra temple politics) की सियासत एक नया तूफ़ान खड़ा कर दिया है। मंगलवार को बीजेपी ने जहां राज्य के अलग अलग हिस्सों में मंदिरों और अन्य धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए सरकार के विरोध में आंदोलन किया तो वहीं राज्यपाल की सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी ने महाराष्ट्र में सियासी जंग का ऐलान कर दिया कर है। राज्यपाल की चिट्ठी पर महिला एवं बालविकास मंत्री यशोमति ठाकुर ने कहा कि यह चिट्ठी किसी बड़े षड़यंत्र का हिस्सा लग रही है।

संवैधानिक पद पर बैठकर असंवैधानिक बात कर रहे हैं राज्यपाल
यशोमति ठाकुर ने कहा कि राज्यपाल एक संवैधानिक पद पर बैठकर असंवैधानिक बातें कर रहे हैं। जो किसी बड़े षड़यंत्र का हिस्सा लग रही है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोरोना का खतरा टल गया है तो अयोध्या में राम मंदिर भूमि पुजन के लिए लालकृष्ण आडवाणी को क्यों नहीं बुलाया गया? उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि अगर माननीय राज्यपाल यह जिम्मेदारी लेते हैं कि धार्मिक स्थल खोलने से कोरोना के प्रसार नहीं होगा तो सरकार को धार्मिक स्थलों को (मंदिरों) खोलने में कोई परेशानी नहीं है।

बीजेपी का पलटवार
महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने शिवसेना पक्ष प्रमुख और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को निशाने पर लेना शुरू कर दिया है। भारतीय जनता पार्टी के विधायक और पूर्व मंत्री आशीष शेलार ने कहा कि उद्धव ठाकरे जी अब समय आ गया है जब आपको राज्य के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी से हिंदुत्व का पाठ और प्रमाणपत्र लेना ही पड़ेगा।उन्होंने कहा कि कसाब को बिरयानी खिलाने वालों के साथ शादी रचाने वाली शिवसेना को राज्यपाल से हिंदुत्व का पाठ सीखना ही होगा। शेलार ने कहा कि उद्धव ठाकरे जी आप स्वर्गीय बाला साहेब के हिंदुत्व को भूल गए हैं। जिन लोगों ने दिवंगत वीर सावरकर का अपमान किया, जिन लोगों ने भारत के टुकड़े होने के नारे लगाए, जिन लोगों ने याकूब को फांसी देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध किया। ऐसे लोगों को आपने अपनी सरकार में शामिल किया है।

शिवसेना ने कहा हिंदुत्व हमारी सांस है
मंदिरों को न खोले जाने की वजह से शिवसेना अब विपक्ष के निशाने पर आ चुकी है। ऐसे में शिवसेना के प्रवक्ता और सांसद संजय राउत ने कहा कि शिवसेना कभी भी हिंदुत्व को छोड़ नहीं सकती है हिंदुत्व शिवसेना का प्राण है। जो लोग हमले कर रहे हैं उन्हें आत्मनिर्भर होकर चिंतन करने की आवश्यकता है।

राज्य में अभी भी कोरोना का खतरा है
संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में अभी भी कोरोना महामारी का संकट खत्म नहीं हुआ है यह बात राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को ही नहीं बल्कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी समझ में आती है तो फिर यह बात राज्य के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी को क्यों समझ में नहीं आती है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को जनता के हित में फैसले लेने का पूरा अधिकार है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here